Hindi Kahani .in

Motivational, Success, Funny, Inspirational, Horror, Moral Stories and Quotes

चमत्कारी चक्की: Short Moral Stories For Kids In Hindi | बच्चो की कहानियाँ

एक गाँव में दो भाई रहा करते थे | बड़ा भाई का नाम था जगमोहन वो बहुत अमीर था और छोटा भाई का नाम था मोहन बहुत गरीब था|

एक बार की बात है दिवाली पर पुरे गॉंव में दीवाली का त्यौहार बड़े ही धूम धाम से मनाया जा रहा था किन्तु छोटे भाई के पास तो खाने के लिए भी कुछ नहीं था,

वो बेचारा दिवाली कहा से मनाता | वह मदद मांगने के लिए अपने बड़े भाई के पास गया | किन्तु बड़े भाई ने मदद तो दूर और अपने छोटे भाई को बेइजत करके घर से निकाल दिया | वो बेचारा उदास और रोता हुआ घर जा रहा था तभी अचानक रास्ते में उसे एक बूढ़ा आदमी दिखाई दिया | उसके पास लकड़ियों का एक गट्ठर था | उसने जब मोहन को देखा तो कहने लगा, बेटा आज दिवाली पे जहाँ पूरी दुनिया खुशी मना रही है वहां तुम रो क्यों रहे हो | उसने कहा बाबा मेरे पे तो खाने के भी पैसे नहीं है मै भला दिवाली कहा से मनाऊ और तो और अपने बड़े भाई से मदद मांगने गया था किन्तु उसने भी मेरी मदद नहीं की | ऐसा ही रहा तो कहीं मेरा परिवार भूखा न मर जाये, मै कुछ भी नहीं कर पा रहा | उस बूढ़े आदमी ने कहा यदि तुम इन लकड़ियों के गट्ठर को मेरे घर ले जाने में मेरी मदद करो तो मै तुम्हे जो दूंगा उससे तुम अमीर बन जाओगे | छोटा भाई ने बूढ़े कि बात मानकर लकड़ियों के गट्ठर को उसके घर छोड़ दिया | बूढ़े ने छोटे भाई को एक मिठाई दी और बोला, अंदर जंगल में जाने पर एक जगह तीन तरह के अजीब पेड़ दिखाई देंगे | जिसके पास ही एक चटान होगी | उसी चट्टान के कोने पर तुम्हे एक गुफा दिखाई देगी | गुफा में तीन बौने रहते है| उन्हें ये मिठाई बहुत पसंद है | वह तीनो बौने मिठाई की कुछ भी कमत दे सकते है | लेकिन तुम उन सें पैसे मत मांगना | बल्कि बोलना की तुम्हारे पास जो चक्की है वो मुझे दे दो |

Hindi Kahani :  Motivational Quotes in Hindi for Success in Life 2020 | आपके अंदर सफलता की आग लगा देंगी

छोटा भाई ने ऐसा ही करा | उसे गुफा में तीन बौने दिखाई दिए | वहा बोनो ने उसके हाथ में मिठाई देख कर कहा – ये मिठाई हमे दे दो बदले में जो चाहे ले लो | छोटे भाई मोहन ने कहा तुम्हारे पास जो चक्की है वो मुझे दे दो | बौनों ने चक्की उसे दे दी ,जैसे ही मोहन चक्की लेकर बाहर निकला एक बौने ने कहा – इसे साधारण चक्की मत समझना | ये चमत्कारी चक्की है इस चक्की को घुमा ने पर तुम जो कुछ भी मांगोगे | इससे वो निकलता रहेगा | और जब भी तुम इस पर लाल कपडा रख दोगे ये बंद हो जाएगी|

छोटा भाई मोहन उस चक्की को अपने साथ घर ले आया | छोटा भाई सीधे घर जाते ही अपने पत्नी से बोलता है यहाँ पर एक कपड़ा बिछाओ | अब मोहन ने चमत्कारी चक्की से बोला -चक्की ओ चक्की चावल निकाल | चक्की ने चावल निकाल ने शुरु कर दिए | जरुरत के मुताबिक चावल निकल जाने के बाद उसने उस पर लाल कपड़ा रख दिया | अब उसने उस चक्की से दाल निकाल ने को कहा और फिर उसने वो ही किया लाल कपडा उस पर रख दिया | उस रात उसके परिवार ने दाल चावल बनाकर भर पेट खाया और चेन की नींद सो गए |

अगले दिन बचे हुआ चावल और दाल को मोहन बाज़ार में बेच आया | उससे उसे कुछ पैसे भी मिल गए |

अब वो उस चक्की से बाकी जरूरत का सामान भी निकालने लगा और उन सभी को वो बाज़ार में जाकर बेच आता |

कुछ ही दिनों में छोटा भाई मोहन बड़े भाई जगमोहन से भी ज्यादा अमीर हो गया | छोटे भाई की तरक्की बड़े भाई के गले नहीं उत्तरी | उसने सोचा अभी तो कुछ दिन पहले तक ये दाने दाने का मोहताज था औरआज मुझसे भी ज्यादा अमीर कैसे बन गया | बड़े भाई ने एक योजना बनाई और एक रात वो चुपचाप छोटे भाई मोहन के घर पहुंच गया |

Hindi Kahani :  Moral Stories in Hindi for Class 9, 8, 6 2020 | Short Story

बड़े भाई को अब सब पता चल चुका था की छोटा इतना अमीर कैसे हुआ | अगले दिन जब छोटा भाई सामान बेचने बाज़ार गया तब बड़े भाई ने चुपके से उसकी चमत्कारी चक्की को चुरा लिया | चक्की चुरा कर वो सीधा घर गया और अपने परिवार को लेकर कही दूर टापू पर बसने के इरादे से गाँव छोड़कर भाग गया |

बड़े भाई ने सोचा अब मै इस दुनिया का सबसे अमीर आदमी बन जाउगा | उसने एक नाव खरीदी और सभी उस नाव में बैठकर टापू की और चल दिए | जगमोहन की पत्नी अभी तक कुछ समझ नहीं पाई थी, वो सोच रह थी की एक पत्थर की चक्की के लिए ये अपना सब कुछ छोड़ आये| पत्नी की संका दूर करने के लिए उसने चक्की को घुमाया और बोला चक्की ओ चक्की नमक निकाल | अब होना क्या था बड़े भाई को चक्की को रोकने का उपाय तो पता ही नहीं था | अब नाव में नमक का ढेर लगना शुरु हो गया | और नाव समुंद्र में डूब गयी | नाव के साथ-साथ जगमोहन और उसकी पत्नी भी पानी में डूब गयी |

इस कहानी के अनुसार कहते है कि चक्की आज भी गुम रही है| तभी तो समुन्द्र का पानी इतना खारा है |

Moral: लालच करना बुर बात है | हम कभी भी लालच नहं करना चाहये |

Written By: Nikunj Gupta

Also Checkout:

11 Short Motivational Stories in Hindi with Moral

Motivational Success Stories in Hindi | Nothing Impossible

Life Changing True Motivational Story with Message

Inspirational Life Story in Hindi Language for Entrepreneurs

Real Life Inspirational Stories in Hindi with Moral

Hindi Kahani :  Sandeep Maheshwari Biography in Hindi 2020

Very Short Moral Stories for Children in Hindi | करोड़पति Story

Moral Stories in Hindi | क्या आप ऐसे सोच सकते हैं?

Hindi Short Stories with Moral Values for Kids

Moral Stories in Hindi for Class 7 | Short Story

Moral Stories in Hindi for Class 8, 9 | Short Story

Hindi Kahani Latest